रविवार, 3 फ़रवरी 2013

इस समय एक खतरा है कविता के साथ, अबूझपन का: मैनेजर पाण्डेय

पेरियार छात्रावास, जे.एन.यू. में पिछले महीने एक कवि-गोष्ठी का आयोजन किया गया था। अनामिका, विद्रोही समेत कई कवियों ने आयोजित गोष्ठी में काव्य-पाठ किया था। काव्य-पाठ के उपरांत वरिष्ठ आलोचक मैनेजर पाण्डेय द्वारा इन कवियों की कविताओं पर प्रतिक्रिया-स्वरूप कही बातें यहाँ आलेख-रूप में प्रस्तुत हैं। हिन्दी के वर्तमान काव्य-परिदृश्य में हिन्दी कविता का पाठकों से दूर होना एक बड़ा संकट बना हुआ है। प्रस्तुत आलेख में इस संकट के कारणों की छानबीन है और कवियों के लिए कुछ उपयोगी परामर्श हैं। : संपादक
______________________________________________________________________________

इस समय एक खतरा है कविता के साथ, अबूझपन का: मैनेजर पाण्डेय 

क बार हजारी प्रसाद द्विवेदी अपने शिष्यों के साथ जा रहे थे, सामने से चंद्रबली पांडेय आ रहे थे। द्विवेदी जी शिष्यों से बोले, रास्ता बदल दो, साक्षात्‌ कुपित ब्रह्मचर्य आ रहा है। बाद में, थोड़ी दूर जाकर एक शिष्य ने पूछा कि पंडित जी कुपित ब्रह्मचर्य क्या होता है? वे बोले कि कुपित ब्रह्मचारी वह होता है जो दिन भर दूसरे से और रात भर खुद से लड़ता है। हिन्दी में भारी संख्या में ऐसे कवि हैं जिनको कुपित ब्रह्मचारी कहा जा सकता है। अपने से ही लड़ते हैं और अपने से ही लड़ने में कविता भी लिखते हैं। आत्मसंघर्ष में जूझे हुए। समाज संघर्ष आना चाहिए। यह देखना जरूरी है कि हमारा समय, आज का समय, कैसा समय है! 

अभी अनामिका ने आशाराम बापू के बारे में कविता पढ़ी। मुझे आशाराम बापू का बयान सुन लेने के बाद तुलसीदास याद आए। तुलसीदास ने लिखा है, ‘बंचक भगत कहाइ राम के / किंकर कंचन कोह काम के।’ ये जो राम के धोखेबाज भक्त हैं, वे धन, क्रोध और काम यानी सेक्स; तीनों चीजों के गुलाम हैं। 

ऐसी कविताएं होनी चाहिए जो पाठक से संवाद बना सकें। जैसे, किसी ने अनुवाद पर कविता सुनाई। किसी को सुनाइये तो वह सोचे कि ये अनुवाद क्या होता है। अनुवाद समझने के लिए तो जे.एन.यू. का छात्र होना पड़ेगा। कविता आप केवल जे.एन.यू. के छात्रों-छात्राओं के लिए तो लिख नहीं रहे हैं। ज्यों आप ऐसा करेंगे त्यों पाठक कविता से दूर होंगे। हिन्दी के एक कवि थे जिन्होंने तीन ऐसी कविताएं लिखीं जिसमें सारा हिन्दी व्याकरण समा गया। कौन कारक है, कौन संज्ञा है, कौन क्रिया है! मैंने उनसे कहा कि ऐसा करो कि इन कविताओं को लिख कर एन.सी.ई.आर.टी. को सौंप दो। भाषा का काम कवि और श्रोता या पाठक के बीच किसी भी स्तर तक संवाद में बाधक बनना नहीं, संवाद में साधक बनने का है। इसलिए ऐसी भाषा से बचना चाहिए।
कविताओं पर प्रतिक्रया के दौरान आलोचक मैनेजर पाण्डेय / photo: Amrendra N. Tripathi
ये जो कुछ कविताएं सुनाई गयी हैं, बढ़िया रहीं, लेकिन जिसमें रवींद्र नाथ टैगोर की प्रेमिका विदेशिनी का जिक्र है वह अर्जेंटाइना की महिला प्रेमिका थी। ज्यों आप कहेंगे आपकी कविता का अर्थ ही बदल जाएगा। आपकी कविता में प्रेमिका उस रूप में नहीं है जिस रूप में रवींद्र नाथ टैगोर की प्रेमिका है। और यह भी ठीक नहीं है, देखिए; रवींद्र नाथ टैगोर महापुरुष थे लेकिन उनका सब कुछ महान ही रहा हो, यह मैं मानने के लिए तैयार नहीं हूँ। न पहले मानने को तैयार था न आज मानने को तैयार हूँ। इसलिए कविता में ऐसा संदर्भ नहीं देना चाहिए जो पाठकों-श्रोताओं को भटकाए। 

इस समय एक खतरा है कविता के साथ, अबूझपन का। उसका परिणाम क्या हुआ है कि कवि पुरस्कृत हो रहे हैं और कविता तिरस्कृत हो रही है। उसी में कुछ लोग, जैसे अशोक वाजपेयी, विलाप करते रहते हैं कि हिन्दी-समाज कविता विरोधी समाज है। ये लोग ये नहीं सोचते कि इनकी कविताएं ही समाज-विरोधी कविताएं हैं। हिन्दी समाज पांच सौ वर्षों से कबीर, तुलसी, सूर और मीरा की कविता केवल पढ़-सुन ही नहीं रहा है, जी भी रहा है। हमारी एक बुआ थीं जो कभी नहीं जाती थीं स्कूल, पर उनकी एक आदत थी कि तुलसीदास के तौर पर चौपाइयां वह अपनी आप गढ़ती थीं। मैं जब बाहर नौकरी करने लगा तो उन्होंने बार-बार कहा भोजपुरी में, ‘जे पूत परदेसी भईले / देवलोक से सबसे गईले।’ यह उनकी गढ़ी हुई है, इसका तुलसीदास से क्या लेना-देना। यहां विश्व साहित्य की अध्येता अनामिका बैठी हैं, मैं कह रहा हूं कि कबीर-सूर-तुलसी इन लोगों की कविता अनपढ़ लोगों को कवि बनाती है। वे अपने मन की दुविधा, अपना द्वंद्व, अपनी खुशी, अपना दुख, अपनी नाराजगी कविता में व्यक्त कर देते हैं। इन सबों की कविता जो यह काम करती है वह मेरी जानकारी में दुनिया की कोई कविता नहीं करती। यह क्षमता किसी बड़े से बड़े कवि में नहीं होगी। ऐसे समाज को आप कविता विरोधी समाज कहते हैं! अरे आप ऐसी कविता ही लिखते हो कि लोग समझ नहीं पाते। समझ नहीं पाने के तीन कारण हैं। पहला, हिन्दी में ऐसे कवियों के बारे में आप जानते ही होंगे, कई मेरे आत्मीय भी हैं, कि उनकी कविता में प्रयुक्त हर शब्द का अर्थ आता है लेकिन पूरी कविता समझ में नहीं आती। कारण, ऐसी संरचना और मानसिकता से वह कविता लिखी जाती है कि सामाय पाठक उससे कोई मेल-जोल बैठा ही नहीं पाता। दूसरी बात है कि कोई साधारण आदमी आपकी कविता पढ़ता है तो चाहता क्या है! वह चाहता है कि कविता उसके दिल-दिमाग की भी कुछ कहे। आप अपने ही दिल दिमाग का कहते रहिए तो उसको इससे क्या लेना देना। इसलिए यह भाव-विचार भी कविता के तिरस्कृत होने का एक कारण है। तीसरा कारण यह है कि हाल फिलहाल की हिन्दी कविता में – हिन्दी के एक बड़े आचार्य के शब्द में कहूँ तो – ‘व्यक्ति वैचित्र्यवाद’ बहुत बढ़ गया है। व्यक्तिगत विचित्रता का कविता में प्रदर्शन। यानी, सौ लोग जैसी लिखते हैं वैसी कविता हम नहीं लिखेंगे, अलग से एक कविता लिखेंगे। जिस पर अकबर इलाहाबादी ने कहा है कि ‘उनका कहा वो आप समझें या खुदा समझे!’ तब लोग कविता से मुंह काहे नहीं मोड़ेंगे। 

एक कविता शुरू में एक कवि ने पढ़ी थी जिसमें कश्मीर का प्रसंग है। उसमें कश्मीर की जगह उत्तर-पूर्व लिख दीजिए तो भी कही अर्थ निकलेगा जो कश्मीर कहने से है। यह हमारे समय की, भारतीय समाज की व्यापक और बड़ी मानवीय त्रासदी है। इसीलिए मैंने शुरू में कहा था कि कविता सार्थक, सजीव और दीर्घजीवी तभी होती है जब वह मानवीय त्रासदी की आवाज बने। 

आखिरी बात मित्रों, यह कहना चाहूंगा कि कभी-कभी कविता में लोकतंत्र भी धोखेबाज हो सकता है। जैसे, अभी अनामिका जी ने कविताएं पढ़ीं। इनकी कविताओं को समझने के लिए श्रोताओं-पाठकों की अपनी ओर से कुछ तैयारी करनी होती है। कार्ल मार्क्स ने कहा था कि संगीत को समझने के लिए संगीत के लिए अभ्यस्त कान चाहिए। मान लीजिए बड़े गुलाम अली खां या मल्लिकार्जुन मंसूर ही क्यों न गा रहे हों और श्रोता यह जानता ही न हो कि ये राग-रागिनी क्या चीज है, तो इन दोनों का गाना ऐसे संगीत-रहित लोगों के सामने लगभग भैंस के आगे बीन बजाने जैसा होगा। बीन बजाने पर हिरण नाचेगी न कि भैस। इसलिए कवि को अपने लिए कुछ रचना भी होता है, पाठक तैयार करना होता है। उसे नया करना होता है, निर्मित करना होता है, लेकिन ऐसा और इस तरह कि आप अपने पाठक तैयार कर सकें, बिदकाएं नहीं उसको।

ये कुछ तत्काल के अनुभव से उपजी व्यावहारिक बातें थीं। हिन्दी कविता की चुनौतियों पर न कोई लंबा-चौड़ा व्याख्यान सोचकर आया था और न ही दिया है। आप लोगों ने भिन्न-भिन्न तरह के कवियों को बुलाया, इसकी मुझे बड़ी प्रसन्नता है। सबको सुनकर मुझे अच्छा लगा।
(प्रस्तुति: अमरेन्द्र नाथ त्रिपाठी)

17 टिप्‍पणियां:

  1. बात में दम है..प्रस्तुति के लिए आभार।

    जवाब देंहटाएं
  2. सुन्दर वक्तव्य! कई कवि लोग बहुत मेहनत करके कविता लिखते हैं। उसका श्रंगार करके उसको आधुनिक और अबूझ बनाते हैं। कविता को डपटते भी हों शायद - खबरदार अगर हमारे अलावा किसी के पल्ले पड़ीं।

    जवाब देंहटाएं
  3. इस प्रवाहपूर्ण और जरूरी आलेख को प्रस्तुत करने के लिए आभार! यह आलेख को पढ़कर और इससे प्रेरणा लेकर कोई भी कवि अपनी कविता को जनव्यापक बनाना चाहेगा।

    जवाब देंहटाएं
  4. जब कवि के संवाद में वर्तमान के प्रति सहजता आ जाये, मानिये आगे बढ़ने का और सोचने का समय आ गया है।

    जवाब देंहटाएं
  5. 'Kavi Purskrit Ho Rahe Hain Aur Kavita Trishkrit!' Sundar Prastuti.

    जवाब देंहटाएं
  6. वाकई पठनीय है यह ..सुधार आखिर सतत प्रक्रिया है हमे इससे कभी इनकार नही करना चाहिए

    जवाब देंहटाएं
  7. अमरेन्द्र भइया, इस पोस्ट के लिए हृदय की गहराइयों से असीम धन्यवाद.
    आदरणीय मैनेजर पाण्डेय जी ने हर उस श्रोता-पाठक की भावनाओं को स्वर दिया है, जो वस्तुतः कविता सुनना-पढ़ना चाहता है. यह वही तबका है जो धरती की महक से पगी और सदियों से बहती हुई कविताओं से इंडक्टेड हो कर अपनी भाषा से लगाव रखता है.
    काश, आदरणीय मैनेजर पाण्डेय जी की समझ और उसे सीधे-सीधे साझा कर सकने की ताकत हर उस आलोचक/समीक्षक में भी हो, जो आये दिन छप रही इस-उस किताब के बरअक्स पाण्डित्य प्रदर्शन कर ’कवियों’ को बहकने देते हैं.

    शुभ-शुभ

    जवाब देंहटाएं
  8. सुंदर-सार्थक वक्तव्य !

    जवाब देंहटाएं
  9. आज जितनी सरल अभिव्यक्ति हुई जा रही है उतनी ही जटिल कविता भी.

    जवाब देंहटाएं
  10. "कवि पुरस्कृत हो रहे हैं और कविता तिरस्कृत हो रही है।" मैनेजर पाण्डेय की यह चिंता कई साहित्यप्रेमियों की साझी चिंता है और एकदम जायज है. इस बात को ऐसे भी कह सकते हैं कि कविता की कीमत पर कवि को सराहा, सहलाया जा रहा है. कविता कष्ट में है, कवि मुगालते में.
    कवि गोष्ठियों में लगाव के साथ, कथ्य-शिल्प-भाषा की बारीकियों के साथ, कटु आलोचना, सलाह-सुझाव, कहीं होता हो तो मुझे पता नहीं. यहाँ तो छोटी सी आलोचना से लेखक खुन्नस खाते हैं और गिरोह बना कर टूट पड़ते हैं. हड़बोंग मचा हुआ है- लिखने, छापने और इनाम पाने के लिये. साहित्य पर कम, साहित्येतर विषयों पर विवाद ही सुनाई देते हैं. इसीलिए पाठकों के प्रति किसी की जवाबदेही नहीं है,प्रकाशकों,समीक्षकों और पुरस्कारकों की अधिक चिंता है.

    जवाब देंहटाएं
  11. अदभुत . आजकल कवि अपनी ज्यादा चिंता कर रहे है . वे कविता नही अमरता की रह पर है
    जीते जी उनकी पाषण प्रतिमाये स्थापित हो जानी चाहिये.खूब किताबे छपे गले में की तमगों की
    सुदीर्ध माला हो.आजकल मुक्तिबोध कोई नही होना चाहता.प्रशंशा का अमृत सभी लोग पीना
    चाहते है . नीलकंठ कौन होना चाहता है

    जवाब देंहटाएं
  12. पाण्डेय जी बहुत खरे और स्पष्ट आलोचक है .हिंदी कविता और रचना के पतनोन्मुखी दिशा के मर्म को पाण्डेय जी ने बिलकुल ठीक छुआ है ..हिंदी में अच्छे लेखक और अच्छी रचनाएं तो उपक्षित हों जाती है और घटिया कविताएं पुरस्कारों से लदी-फंदी रहती है .....आज के समय में मुक्तिबोध या निराला की कोई कल्पना भी कर सकता है ....अब तो मित्रों की पुस्तके भी ऐसी आने लगी जिसमे पुस्तक का शीर्षक छोटे फॉण्ट में और लेखक का नाम मोटे चौड़े फॉण्ट में होने लगा ......... पाण्डेय जी चिंता बहुत जायज़ है .....बौने जीवन से बड़ी रचना नहीं पैदा हों सकती ...मलयज की यह सूक्ति थोड़ा बदल कर कहें तो बौने रचना की मार्केटिंग से पुरस्कार और यश तो अर्जित किया ही जा सकता है ......उधाहरण बहुतेरे मिल जायेंगे ......

    जवाब देंहटाएं
  13. The Casino at Borgata, NJ - Mapyro
    Casino at Borgata, NJ. Closed. Casino 전라남도 출장샵 Info. Hours, 서귀포 출장샵 Address, Phone Number, 군포 출장마사지 Reviews. Map 양산 출장안마 icon. Casino at Borgata, 삼척 출장안마 NJ. 2.2 mi (3.7 km)  Rating: 4.5 · ‎3 reviews

    जवाब देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ चर्चा को पूर्ण बनाती है...